Showing posts with label Tips. Show all posts
Showing posts with label Tips. Show all posts
kaju-ke-fayde

काजू से  निखारे सौंदर्य  (काजू (Cashew) के फायदे !!) 


Kaju ke kafi sare upyog aur fayde hai !!

# काजू तैलीय, शुष्क आदि हर प्रकार की त्वचा के लिए लाभप्रद होता है। यदि आपकी त्वचा तैलीय प्रकृति की है तो आप काजू को रातभर दूध में भिगोकर सुबह उसे महीन पीसकर उसमें मुल्तानी मिट्टी, नींबू या दही की थोड़ी मात्रा मिलाकर उसे चेहरे पर लगाएँ।
#  शुष्क त्वचा वाले बारीक पिसे हुए काजू में मुल्तानी मिट्टी व शहद मिलाकर अपनी त्वचा पर लगाएँ। इससे आपकी त्वचा में एक कुदरती चमक आती है।

# काजू में मैग्नीशियम पाया जाता हैं जो रक्तचाप कम करने में और दिल के दौरे को रोकने में मदद करता है।

# काजू एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत हैं जो हृदय रोग और कैंसर से बचाता हैं।

# काजू खाने से शरीर की हड्डियाँ मजबूत होती हैं।

# काजू में कॉपर अधिक मात्रा में पाया जाता हैं जो शरीर के हड्डियों और जोड़ो को लचीला बनाने में मदद करता हैं और त्वचा और बालों को रंग प्रदान करता हैं।

# काजू में वसा अच्छी मात्रा में पाया जाता हैं। फिर भी ये वजन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं|

# काजू फाइबर का अच्छा स्रोत हैं।
# काजू कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित रखता हैं।

# काजू में प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता हैं। इसके सेवन से त्वचा सुंदर और चमकदार हो जाती हैं।

#  काजू मसूड़ों और दांतों को स्वस्थ बनाए रखता हैं। 
आलू के असरकारी नुस्खे

- रक्तपित्त बीमारी में कच्चा आलू बहुत फायदा करता है।

- कभी-कभी चोट लगने पर नील पड़ जाती है। नील पड़ी जगह पर कच्चा आलू पीसकर लगाएं।

- शरीर पर कहीं जल गया हो, तेज धूप से त्वचा झुलस गई हो, त्वचा पर झुर्रियां हों या कोई त्वचा रोग हो तो कच्चे आलू का रस निकालकर लगाने से फायदा होता है।

- भुना हुआ आलू पुरानी कब्ज और अंतड़ियों की सड़ांध दूर करता है।

- आलू में पोटेशियम साल्ट होता है जो अम्लपित्त को रोकता है।

- चार आलू सेंक लें और फिर उनका छिलका उतार कर नमक, मिर्च डालकर नित्य खाएं। इससे गठिया ठीक हो जाता है।

- गुर्दे की पथरी में केवल आलू खाते रहने पर बहुत लाभ होता है। पथरी के रोगी को केवल आलू खिलाकर और बार-बार अधिक पानी पिलाते रहने से गुर्दे की पथरियां और रेत आसानी से निकल जाती हैं।

- उच्च रक्तचाप के रोगी भी आलू खाएं तो रक्तचाप को सामान्य बनाने में लाभ करता है।

- आलू को पीसकर त्वचा पर मलें। रंग गोरा हो जाएगा।

- आलू का रस दूध पीते बच्चों और बड़े बच्चों को पिलाने से वे मोटे-ताजे हो जाते हैं। आलू के रस में शहद मिलाकर भी पिला सकते हैं।





Nutrition and Health DietTips on Health and Fitness

Health and Fitness is now one of the major concern areas across the world. Easy lifestyle is what we are moving towards. Very less of effort spent on most activities like, travel by motor vehicles, air-conditioned environment, ready-made food stuff, etc.

Earlier humans used to hunt for their living, due to which their body had to undergo a lot of physical exercise. Every part of the body was exercised and the intake was more of natural substances.

Today, we hardly do any of those. Even a simple 30 mins per day of workouts and one good nutritious meal a day can help improve our health. This easy life has restricted humans to do that bit of physical exercise which is required to keep the body fit and healthy.

How do we ensure that we have all that is required for a healthy living? This is a big question among everyone. We need a fit and healthy body. Good Health is all that one craves for. Becoming healthier and fitter though not very difficult needs dedicated efforts.

Nutrition and Health Diet
The basic foundation for a healthy individual starts from his foetal stage with proper and healthy nutrition derived from his or her mother. Hence, a pregnant woman's diet stands atop all diets.

Your food shall be your medicine. Ayurveda has postulated the role of food and especially nutritive foods for maintaining health as well as cure of diseases. Nutrients are necessary for the proper functioning of mental, physical, metabolic, chemical and hormonal activities. The body is like a machine that will repair and rebuild itself if proper nutrition is provided by way of food.

Sumptuous nutrition is available in fruits and vegetables. Fruits have the capacity to give all that a body needs.


How to consume?
What to consume?
Which fruit helps in which way?


The answers to these questions can be found in our Nutrition and Healthy Diet Section

Exercise and Fitness


Simple fitness exercises can help to have a fitter and healthy life. Stretching exercises can help in many ways in maintaining a fitter body. Weight loss can be achieved by following simple effortless regular exercises. Medical breakthroughs can happen by regular meditation and exercising. Yoga and other workouts which can be performed easily are available in this website to keep you fit and healthy.

Health and Fitness can make all that difference in one's life. Healthy living is all that one needs, and to achieve that we picked up the best of the articles from reliable sources and have presented here in an organized manner. You might not be able to spend your valuable time on complicated medications and diet controls, but, you can find articles to help you have a better living using simple and easy technics.

Ayurveda, a science in vogue practiced since centuries, uses a wide variety of plants, animal origin substances, mineral and metallic substances to rebalanced the diseased condition in the sick. A few tips on simple treatment of life style diseases have been carefully picked for the visitors of this website.
These tips can help reduce or control diseases like diabetes, cholesterol, blood pressure, etc.
dark_circles_on_faceHow to Remove Dark Circles of faces.


Simple steps to remove dark circles of faces.

1  - Make a paste of one tsp tomato juice, ½ tsp lemon juice, a pinch of turmeric (haldi) powder & a little gram flour (besan) & apply it on the affected area. Leave for 10 minute & wash off.

2  - Drink tomato juice with a few mint leaves regularly for visible results

3  - Soak cotton wool in cucumber (kheera) or potato juice & apply around the eyes. You will find a change in 2-3 weeks.

4  - Boil ½ teaspoon fennel seeds (saunf) in a cup of water till it is reduced to half. Cool. Use as eye drops
(Caution: Beware of contamination).


पेट व कमर कैसे कम करें  (How to lose weight ? )
मोटापा कम करने के घरेलू उपाय !!

पेट व कमर कैसे कम करें

गलत ढंग से आहार-विहार यानी खान-पान, रहन-सहन से जब शरीर पर चर्बी चढ़ती है तो पेट बाहर निकल आता है, कमर मोटी हो जाती है और कूल्हे भारी हो जाते हैं। इसी अनुपात से हाथ-पैर और गर्दन पर भी मोटापा  (obesityआने लगता है। जबड़ों के नीचे गरदन मोटी होना और तोंद बढ़ना मोटापे के मोटे लक्षण हैं।

मोटापे  से जहाँ शरीर भद्दा और बेडौल दिखाई देता है, वहीं स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ व्याधियाँ पैदा हो जाती हैं, लिहाजा मोटापा (obesity) किसी भी सूरत में अच्छा नहीं होता। बहुत कम स्त्रियाँ मोटापे  (obesityका शिकार होने से बच पाती हैं।


हर समय कुछ न कुछ खाने की शौकीन, मिठाइयाँ, तले पदार्थों का अधिक सेवन करने वाली और शारीरिक परिश्रम न करने वाली स्त्रियों के शरीर पर मोटापा आ जाता है।प्रायः प्रसूति के बाद की असावधानी और गलत आहार-विहार करने से स्त्रियों का पेट बढ़ जाया करता है।


प्रसव के बाद 40 दिन तक पेट बाँधकर रखने से पेट बड़ा नहीं हो पाता। पेट बाँधने के बेल्ट बाजार में मिलते हैं। पहली कोशिश तो यही करना चाहिए कि पेट बढ़ने ही न पाए, क्योंकि एक बार पेट बढ़ जाने पर कम करना कठिन और समय साध्य कार्य हो जाता है। इसके लिए दो-तीन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।* प्रायः महिलाएँ भोजन करके खूब पानी पिया करती हैं।


भोजन के अन्त में पानी पीना उचित नहीं, बल्कि एक-डेढ़ घण्टे बाद ही पानी पीना चाहिए। इससे पेट और कमर पर मोटापा नहीं चढ़ता, बल्कि मोटापा (obesityहो भी तो कम हो जाता है।

Lose weight now fast!


* आहार भूख से थोडा कम ही लेना चाहिए। इससे पाचन भी ठीक होता है और पेट बड़ा नहीं होता। पेट में गैस नहीं बने इसका खयाल रखना चाहिए। गैस के तनाव से तनकर पेट बड़ा होने लगता है। दोनो समय शौच के लिए अवश्य जाना चाहिए।


* भोजन में शाक-सब्जी, कच्चा सलाद और कच्ची हरी शाक-सब्जी की मात्रा अधिक और चपाती, चावल व आलू की मात्रा कम रखना चाहिए।


* सप्ताह में एक दिन उपवास या एक बार भोजन करने के नियम का पालन करना चाहिए। उपवास के दिन सिर्फ फल और दूध का ही सेवन करना चाहिए।


* पेट व कमर का आकार कम करने के लिए सुबह उठने के बाद या रात को सोने से पहले नाभि के ऊपर के उदर भाग को 'बफारे की भाप' से सेंक करना चाहिए। इस हेतु एक तपेली पानी में एक मुट्ठी अजवायन और एक चम्मच नमक डालकर उबलने रख दें। जब भाप उठने लगे, तब इस पर जाली या आटा छानने की छन्नी रख दें। दो छोटे नैपकिन या कपड़े ठण्डे पानी में गीले कर निचोड़ लें और तह करके एक-एक कर जाली पर रख गरम करें और पेट पर रखकर सेंकें। प्रतिदिन 10 मिनट सेंक करना पर्याप्त है। कुछ दिनो में पेट का आकार घटने लगेगा।


* सुबह उठकर शौच से निवृत्त होने के बाद निम्नलिखित आसनों का अभ्यास करें या प्रातः 2-3 किलोमीटर तक घूमने के लिए जाया करें। दोनों में से जो उपाय करने की सुविधा हो सो करें।


* भुजंगासन, शलभासन, उत्तानपादासन, सर्वागासऩ, हलासन, सूर्य नमस्कार। इनमें शुरू के पाँच आसनों में 2-2 मिनट और सूर्य नमस्कार पाँच बार करें तो पाँच मिनट यानी कुल 15 मिनट लगेंगे। इन आसनों की विधि वेबदुनिया के योग चैनल से प्राप्त की जा सकती है।
* भोजन में गेहूँ के आटे की चपाती लेना बन्द करके जौ-चने के आटे की चपाती लेना शुरू कर दें। इसका अनुपात है 10 किलो चना व 2 किलो जौ। इन्हें मिलाकर पिसवा लें और इसी आटे की चपाती खाएँ। इससे सिर्फ पेट और कमर ही नहीं सारे शरीर का मोटापा कम हो जाएगा।


* प्रातः एक गिलास ठण्डे पानी में 2 चम्मच शहद घोलकर पीने से भी कुछ दिनों में मोटापा कम होने लगता है।


दुबले होने के लिए दूध और शुद्ध घी का सेवन करना बन्द न करें। वरना शरीर में कमजोरी, रूखापन, वातविकार, जोड़ों में दर्द, गैस ट्रबल आदि होने की शिकायतें पैदा होने लगेंगी।ऊपर बताए गए उपाय करते हुए घी-दूध खाते रहिए, मोटापा नहीं बढ़ेगा। इस प्रकार उपाय करके पेट और कमर का मोटापा निश्चित रूप से घटाया जा सकता है। ये सब उपाय सफल सिद्ध हुए हैं।

How to lose weight ?

पेट कम करने के घरेलू उपाय

मोटापा (obesity) घटाने के उपाय
वजन कम करने के घरेलु उपाय
वजन कम करने के घरेलू नुस्खे
मोटापा कम करने के घरेलु उपाय

याददाश्त बढ़ाने के आसान उपाय


- प्रतिदिन अखरोट का सेवन करें।

- शहद को हर रोज किसी न किसी रूप में लेने से याददाश्त अच्छी रहती है।

- पीपल के पेड़ के 5 पके फल हर दिन खाने से भी स्मरण शक्ति बढ़ती है।

- पका कद्दू हफ्ते में एक बार खाना याददाश्त बढ़ाने का अचूक उपाय है।

- खाना खाने से पूर्व एक मीठा सेब बिना छिले खाने से स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है।

- चुकंदर का रस दिन में दो बार एक कप लेने से स्मृति बढ़ती है।

- गेंहू के जवारे का रस रोज पीने से सभी मानसिक रोगों में फायदा मिलता है और याददाश्त तेज होती है।
दालचीनी और शहद का दमदार नुस्खा

सामान्यत: दालचीनी मसालों के रूप में काम मे ली जाती है। लेकिन यह पेट रोग, इंफ्यूएंजा, टाइफाइड, टीबी और कैंसर जैसे रोगों में उपयोगी पाई गई है। दालचीनी का तेल बनता है। दालचीनी,साबुन, दांतों के मंजन, पेस्ट, चाकलेट, सुगंध व उत्तेजक के रूप में काम में आती है। चाय, काफी में दालचीनी डालकर पीने से स्वादिष्ट हो जाती है तथा जुकाम भी ठीक हो जाता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं दालचीनी के कुछ घरेलु प्रयोग जो बहुत उपयोगी हैं।


- दालचीनी का तेल दर्द, घावों और सूजन को नष्ट करता है।

- दालचीनी को तिल के तेल, पानी, शहद में मिलाकर उपयोग करना चाहिए। दर्द वाले स्थान पर मालिश करने के बाद इसे रातभर रहने देते है। मालिश अगर दिन में करें तो 2-3 घंटे के बाद धोएं।

- दालचीनी त्वचा को निखारती है तथा खुजली के रोग को दूर करती है।

- दालचीनी सेहत के लिए लाभकारी है। यह पाचक रसों के स्त्राव को भी उत्तेजित करती है। दांतों की समस्याओं को दूर करने में भी यह उपयोगी है।

- रात को सोते समय नियमित रूप से एक चुटकी दालचीनी पाउडर शहद के साथ मिलाकर लेने से मानसिक तनाव में राहत मिलती है और स्मरण शक्ति बढ़ती है।

- दालचीनी का नियमित प्रयोग मौसमी बीमारियों को दूर रखता है।

- ठंडी हवा से होने वाले सिरदर्द से राहत पाने के लिए दालचीनी के पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाकर माथे पर लगाएं।

- दालचीनी पाउडर में नीबू का रस मिलाकर लगाने से मुंहासे व ब्लैकहैड्स दूर होते हैं।

- दालचीनी, डायरिया व जी मिचलाने में भी औषधी के रूप में काम में लाई जाती है।

- मुंह से बदबू आने पर दालचीनी का छोटा टुकड़ा चूसें। यह एक अच्छी माउथ फ्रेशनर भी है।

- दालचीनी में एंटीएजिंग तत्त्व उपस्थित होते हैं। एक नीबू के रस में दो बड़े चम्मच जैतून का तेल, एक कप चीनी, आधा कप दूध, दो चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर पांच मिनट के लिए शरीर पर लगाएं। इसके बाद नहा लें, त्वचा खिल उठेगी।

- दालचीनी पाउडर की तीन ग्राम मात्रा सुबह-शाम पानी के साथ लेने पर दस्त बंद हो जाते हैं

- आर्थराइटिस का दर्द दूर भगाने में शहद और दालचीनी का मिश्रण बड़ा कारगर है।

-गंजेपन या बालों के गिरने की समस्या बेहद आम है। इससे छुटकारा पाने के लिए गरम जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर का पेस्ट बनाएं। इसे सिर में लगाए और पंद्रह मिनट बाद धो लें।

- एक चम्मच दालचीनी पाउडर और पांच चम्मच शहद मिलाकर बनाए गए पेस्ट को दांत के दर्द वाली जगह पर लगाने से फौरन राहत मिलती है।

- सर्दी जुकाम हो तो एक चम्मच शहद में एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर दिन में तीन बार खाएं। पुराने कफ और सर्दी में भी राहत मिलेगी।

- पेट का दर्द-शहद के साथ दालचीनी पाउडर लेने पर पेट के दर्द से राहत मिलती है।

- खाली पेट रोजाना सुबह एक कप गरम पानी में शहद और दालचीनी पाउडर मिलाकर पीने से फैट कम होता है। इससे मोटे से मोटा व्यक्ति भी दुबला हो जाता है।


मुँहासों से कैसे पाएँ छुटकारा


कुछ घरेलू उपचारों के द्वारा हम अपने चेहरे पर उभरे दाग-धब्बे, काले तिल व मुँहासों आदि से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं –



* ताजे हरे धनिए की पत्तियों को पीसकर उस लेप को चेहरे पर लगाने से चेहरे पर उभरे काले तिलों से हमेशा के लिए निजात पाई जा सकती है।

* तुलसी की सूखी पत्तियाँ पानी के साथ पीसकर उसे चेहरे पर नियमित मलने से चेहरे के काले दाग धीरे-धीरे गायब होने लगते हैं।

* जायफल को पानी में घीसकर मलना भी बहुत फायदेमंद होता है।

* खड़ी मसूर को कागजी नींबू के रस में पीसकर दोनों गालों पर मलना बहुत लाभकारी होता है।

* चेहरे की रौनक बढ़ाने के लिए पानी में चंदन व हल्दी पावडर मिलाकर उसे चेहरे पर मलें।

* अमलतास की छाल, अनार की छाल, लोधी, आमा हल्दी और नागरमोथा की बराबर मात्रा पीसकर जल के साथ उसका गाढ़ा पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से जल्द ही मुँहासों से निजात पाई जा सकती है।


आयुर्वेद घरेलु नुस्खे – हरी इलायची ,लौंग

  • छिलके सहित इलायची को आग में जलाकर राख कर लें। इस राख को शहद में मिलाकर चाटने से उल्टी होना बंद होती है।
  • हरी इलायची 10 ग्राम, सौंफ 20 ग्राम, मिश्री 40 ग्राम तीनों को (इलायची छिलके सहित) महीन पीसकर मिला लें। प्रातः एक चम्मच चूर्ण दूध के साथ पीने से नेत्र ज्योति बढ़ती है व हृदय को बल मिलता है।
  • छिलके सहित छोटी इलायची, सौंठ, कालीमिर्च और दालचीनी समभाग लेकर पीस लें और महीन चूर्ण बना लें। चाय बनाते समय खौलते पानी में यह चूर्ण एक चुटकी भर डालकर चाय बनाइए। बड़ी स्वादिष्ट चाय बनेगी।
  • लौंग के तेल की एक-दो बूँद रुई के फाहे पर टपकाकर जिस दाँत में दर्द हो, वहाँ रखकर दबाएँ, दाँत का दर्द दूर हो जाएगा।
  • लौंग के तेल की एक-दो बूँद रुई के फाहे पर टपकाकर जिस दाँत में दर्द हो, वहाँ रखकर दबाएँ, दाँत का दर्द दूर हो जाएगा।
  • नारियल के तेल में लौंग के तेल की 8-10 बूँदें टपकाकर यह तेल सर में लगाकर मालिश करने से सिरदर्द ठीक हो जाता है।
  • लौंग, छोटी हरड़ और सेंधा नमक तीनों 10-10 ग्राम लेकर पीस लें। भोजन करने के बाद यह चूर्ण एक चम्मच, पानी के साथ फाँकने से उदर रोग ठीक होते हैं।
  • लौंग, सौंफ, छोटी इलायची, जरा-सा खोपरा समभाग लेकर कूट-पीस लें। इसे मुँह में रखने से मुख शुद्ध और दाँत मजबूत होते हैं।
मुंहासे से कैसे पाएँ छुटकारा !!



कुछ घरेलू उपचारों के द्वारा हम अपने चेहरे पर उभरे दाग-धब्बे, काले तिलमुँहासों आदि से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं –


संतरे के छिल्कों को छाया में सुखाकर बनाया गया बारिक चूर्ण और बराबर मात्रा में बेसन (अथवा बारीक पिसी हुई मुल्तानी मिट्टी दुगुनी) मिलाकर मिश्रण बना लें।

इस मिश्रण को पन्द्रह मिनट पानी में भिगोने के बाद गाढ़ा घोल बना लें और इसका मुंहासिं पर लेप करं। दस मिनट लगा रहने के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लिया जाए तो इस प्रकार ४-६ सप्ताह के प्रयोग से मुंहासे नष्ट हो जाते हैं

Popular Posts